नाना ने लूट ली अपनी ही नाबालिग नातिन की आबरू ; बच्ची की मां व नानी को भी बनाया आरोपित

रिश्तों को शर्मसार करने वाली यह घटना हतप्रभ करने वाली है। विश्वास नहीं होता कि ऐसा भी हो सकता है। यहाँ दून के एक कलयुगी नाना ने अपनी ही नाबालिग नातिन की आबरू लूट ली। घटना के सदमे में रही बच्ची ने गोवा में इसकी जानकारी दी। इसके बाद गोवा में मुकदमा दर्ज किया गया। मामले को अब देहरादून के रायपुर थाने में स्थानांतरित किया गया है।

देहरादून : रिश्तों को शर्मसार करने वाली यह घटना हतप्रभ करने वाली है। विश्वास नहीं होता कि ऐसा भी हो सकता है। यहाँ दून के एक कलयुगी नाना ने अपनी ही नाबालिग नातिन की आबरू लूट ली। घटना के सदमे में रही बच्ची ने गोवा में इसकी जानकारी दी। इसके बाद गोवा में मुकदमा दर्ज किया गया। मामले को अब देहरादून के रायपुर थाने में स्थानांतरित किया गया है।

बच्ची के पिता ने बताया कि घटना के बाद आरोपित उसके ससुर, बच्ची की मां तथा बच्ची की नानी ने पीड़ित किशोरी से मारपीट भी की। मुख्य आरोपित भारत सरकार से रिटार्यड कर्मचारी है। पीड़ित के पिता ने अपनी पत्नी और सास को भी आरोपित बनाया है। शनिवार को प्रकाश में आई यह घटना करीब तीन साल पुरानी है। इस मामले में नाना ने नाबालिग नातिन के साथ दुराचार किया।

मुकदमा दर्ज कराने वाले बच्ची के पिता ने बताया है कि वह मूल रूप से मुजफ्फरनगर का रहने वाला है। उसके ससुर ने उनकी नाबालिग बेटी से दुराचार किया। उसके मुताबिक उसके ससुर ने उसे नीचा दिखाने तथा नातिन को घर से भगाने के लिए यह कदम उठाया। पीड़ित के पिता का कहना है कि शादी के बाद से ही उसके ससुराल वालों से संबंध खराब हो गए थे। गोवा में उनका हार्डवेयर का व्यापार है। उनकी पत्नी शादी के बाद गोवा जाने को तैयार नहीं थी।

उसकी पत्नी तथा ससुराली उस पर गोवा से वापस देहरादून आने के लिए दबाव डाल रहे थे। उसने इससे इनकार किया तो पत्नी ने उसके व अन्य ससुरालियों पर मुकदमा दर्ज कराया। इसके बाद उसकी बेटी अपनी मां के साथ देहरादून में रहने लगी। इस दौरान बच्ची को घर में अकेला पाकर उसके नाना ने रेप की घटना को अंजाम दिया। बच्ची ने बाद में मां व नानी को इस बारे में जानकारी दी। दोनों ने इस मामले में कानूनी कार्रवाई करने की बजाय बच्ची के साथ मारपीट की तथा चुप रहने को कहा। बच्ची स्कूल में पढ़ाई के दौरान काफी परेशान रहने लगी।

इसके बाद स्कूल वालों ने परिजनों को फोन कर इसकी जानकारी दी। उसके बाद बच्ची की मानसिक हालत खराब होती गयी। बच्ची के पिता उसे गोवा साथ ले गए। गोवा जाने के बाद की बच्ची की हालत नहीं सुधरी। प्राइवेट डाक्टरों ने उसे सरकारी अस्पताल में जाने की सलाह दी। सरकारी अस्पताल में 18 डाक्टरों की टीम ने उनकी बेटी से पूछताछ की। पूछताछ के दौरान ही उनकी बेटी ने नाना के द्वारा किए गए दुराचार की जानकारी दी। डाक्टरों की टीम ने स्थानीय गैर सरकारी संगठन तथा पुलिस को सूचना दी। उन्हीं के प्रयास से मुकदमा गोवा में दर्ज किया गया।

घटनास्थल देहरादून होने के चलते इस मुकदमे को देहरादून स्थानांतरित कर दिया गया। मुकदमे की जांच में सहयोग करने के लिए गोवा से देहरादून आये बच्ची के पिता ने बताया कि वह बेटी के साथ हुई इस घटना से हतप्रभ हैं। उसके ससुर उसे पसंद नहीं करते थे। वह उसकी बेटी से भी नफरत करते थे। पीड़ित बच्ची के पिता के मुताबिक इस घटना के बाद बच्ची ने अपनी मां तथा नानी को दुराचार की जानकारी दी थी लेकिन दोनों ने बच्ची से मारपीट की।

उसी के बाद उसकी मानसिक हालत खराब हो गई थी। लंबे समय बाद वह सामान्य स्थिति में आई है। रायपुर थाने में महिला पुलिसकर्मी मामले की जांच कर रही है। पुलिस ने बच्ची के बयान दर्ज कर लिए हैं।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *