राहुल गांधी बोले- BJP ने कर दी लोकतंत्र की नोटबंदी, लोगों ने खूब किया ट्रोल

नई दिल्ली : कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने जोड़-तोड़कर मेघालय में एनडीए सरकार बनवाने पर बीजेपी की आलोचना की, उन्होंने इसे लोकतंत्र की नोटबंदी करार दिया है। सोशल मीडिया अकाउंट ट्विटर पर राहुल ने लिखा है, “सिर्फ दो सीट जीतनेवाली भाजपा ने छद्म तरीके से मेघालय में सत्ता छीनी है। ठीक उसी तरह जैसे मणिपुर और गोवा में जनादेश का गला घोंटते हुए इन लोगों ने जन आकांक्षा के उपेक्षा कर सरकार बनाई थी। पैसों के बल पर अवसरवादी गठबंधन बनाकर बीजेपी ने सत्ता हथियाने की बजाय छीनी है।” इसके साथ ही राहुल गांधी ने हैशटैग लोकतंत्र नोटबंदी लिखा है। बता दें कि मेघालय चुनावों में कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है मगर वह सत्ता से दूर हो गई। मणिपुर और गोवा के बाद मेघालय तीसरा ऐसा राज्य है, जहां बीजेपी ने जोर-आजमाइश कर अपने बूते सरकार बनाई है और कांग्रेस के पाले में गई गेंद को अपने पाले में कर लिया है।

राहुल की इस टिप्पणी पर कई लोगों ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है और उन्हें ट्रोल किया है। एक यूजर ने लिखा है, “वोट डालना था ना इटालीयन जेनरल इलेक्शन में 4 मार्च को इसलिए जनाब पप्पू गए थे नानी से मिलने के बहाने।” एक अन्य यूजर ने लिखा है, “तू इटली गया नानी से मिलने नानी भी तो इंडिया आ सकतीं थी, माल छुपा के ले गया था क्या?”

एक अन्य यूजर ट्रोल करते हुए लिखा है, “इन चुनावी नतीज़ों के बाद  विपक्ष के पास सिर्फ दो हो ऑप्शन बचे है, या तो ईमानदार हो जाये या फिर राजनीति छोड़ कर पकोड़े बेचे।” दूसरे यूजर ने प्रतिक्रिया दी है, “विकास के रथ को रोकने के लिए अगर, बुआ-बबुआ-हँसुआ(communists)-सब ले डुबवा(You know who) ..ये सब भी “ठगबंधन” कर लें,तब भी सत्य को कोई हरा नहीं सकता।”

बता दें कि एनडीए की तरफ से नेशनल पीपुल्स पार्टी के नेता और भूतपूर्व लोकसभा अध्यक्ष पी ए संगमा के छोटे बेटे कॉनराड संगमा मेघालय के अगले मुख्यमंत्री होंगे। उनकी पार्टी को 60 सदस्यों वाली विधानसभा में मात्र 19 सीटें मिली थीं।मेघालय की 60 सीटों की विधानसभा में से 59 पर 27 फरवरी को चुनाव हुए थे जिसमें से कांग्रेस को 21, भाजपा को 2 और एनपीपी को 19 और यूनाइटेड डेमोक्रेटिक पार्टी (यूडीपी) को 6 सीटें मिली हैं।  6 मार्च (मंगलवार) की सुबह साढ़े दस बजे कॉनराड संगमा सरकार का शपथ ग्रहण समारोह होगा।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *