दून के पूर्व आरटीओ सुधांशु ने तबादला एक्ट के खिलाफ कोर्ट में याचिका दायर की

पांच जुलाई को गर्ग का दून से पौड़ी संभाग में हुआ था तबादला


देहरादून। संवाददाता। आरटीओ सुधांशु गर्ग ने सरकार के तबादला एक्ट को हाईकोर्ट में चुनौति दी है। सुधांशु गर्ग ने एक्ट में कई खामियां बताकर अपना स्थानांतरण गलत करार दिया है। गर्ग ने अभी तक अपनी नौ साल छह माह की सेवा के दौरान सात साल चार माह की सेवा दुर्गम में दी है।

दरअसल धूमाकोट बस हादसे के बाद पांच जुलाई को शासन ने देहरादून संभागीय कार्यालय में तैनात आरटीओ सुधांशु गर्ग को पौड़ी संभाग में ट्रांसफर किया था, जबकि उनकी जगह पौड़ी संभाग से आरटीओ दिनेश चंद्र पठोई को देहरादून ट्रांसफर किया गया। इस संबंध में अपर सचिव हरि चंद्र सेमवाल ने तत्काल नवीन स्थल में कार्यभार ग्रहण करने को लेकर आदेश जारी किए थे। इसके बाद डीसी पठोई ने तो देहरादून संभाग में कार्यभार ग्रहण कर लिया, लेकिन अपने ताबदले को गलत ठहराते हुए सुधांशु गर्ग ने याचिका दायर करते हुए तबादला एक्ट को हाईकोर्ट में चुनौति दी है।

आरटीओ सुधांशु गर्ग ने बताया कि आरटीओ उन्होंने उत्तराखंड में अभी तक नौ साल छह माह की सेवा के दौरान सात साल चार माह की सेवा दुर्गम में दी है। इसमें एक साल की सेवा उन्होंने अल्मोड़ा और बाकी पौड़ी संभाग में दी है। वर्तमान में जिनते आरटीओ विभाग में हैं, उनमें सबसे अधिक उन्होंने दुर्गम में काटे हैं। इसके बावजूद उनका ट्रांसफर फिर से पौड़ी संभाग में कर दिया गया। बताया कि तबादला एक्ट में कई खामियां हैं। ये बात शासन में बैठे शीर्ष अधिकारी भी समझते हैं।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *