प्रेमी के शक व नंबर ब्लाॅक करने से तंग छात्रा ने लगाई फांसी,छोड़ा सोसाइड नोट


हल्द्वानी। प्रेमी के शक करने पर मोबाइल नंबर और वाट्सएप ब्लॉक करने से क्षुब्ध बीएससी की छात्रा ने पहले हाथ की नस काटकर खुदकुशी की कोशिश की और फिर फांसी के फंदे से झूल गई।

मूल रूप से पिथौरागढ़ जिले के गंगोलीहाट निवासी छात्रा अपनी दीदी व भाई के साथ पिछले महीने ही दमुवाढूंगा में किराये पर रहने आई थी। भाई-बहनों के पहुंचने पर छात्रा को पंखे से लटका देखने पर कोहराम मच गया। पुलिस को कमरे से रोमन इंग्लिश में लिखा एक सोसाइड नोट भी मिला है। छात्रा के परिजनों को सूचित कर शव पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है।

गंणाईगंगोली तहसील के एक गांव में रहने वाली छात्रा और उसके छोटे भाई ने इसी साल 12वीं की परीक्षा पास की थी। जबकि उनकी बड़ी बहन ने बीए पास किया था। तीनों भाई-बहन 27 जून को आगे की पढ़ाई के लिए हल्द्वानी आए और दमुवाढूंगा में मकान किराये पर लिया। कुछ दिन पहले ही छात्रा ने बीएससी फस्र्ट ईयर में प्रवेश लिया था। जबकि एमबीपीजी कॉलेज में प्रवेश ले रहे छोटे भाई की बीएससी की मेरिट लिस्ट जारी होनी थी।

तीन दिन पहले उनकी सबसे बड़ी विवाहित बहन भी दमुवाढूंगा पहुंची। शुक्रवार सुबह छात्रा घर पर अकेले थी। जबकि उसकी दोनों बड़ी बहनें व छोटा भाई एमबीपीजी कॉलेज गए थे। दोपहर वे वापस लौटे तो कमरे में दुपट्टे के सहारे पंखे से छात्रा लटकी दिखी। जान बचने की आस पर उन्होंने दुपट्टा काटकर 108 एंबुलेंस को सूचित किया।

108 सेवा से पुलिस को सूचना मिली। पुलिस व 108 एंबुलेंस मौके पर पहुंची, लेकिन तब तक काफी देर हो चुकी थी। पुलिस को कमरे की तलाशी में एक सुसाइड नोट भी मिला है। जिसमें उसने माता-पिता से अच्छी बेटी नहीं बन पाने की माफी मांगने के साथ ही प्रेमी के बार-बार शक कर फोन नंबर व वाहट्एप ब्लॉक करने की जिक्र किया है।

थानाध्यक्ष कमाल हसन ने बताया कि दुपट्टा व सुसाइड नोट कब्जे में लेकर शव पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। परिजनों के आने पर शव का पोस्टमार्टम कराया जाएगा।

सॉरी पापा मैं आपकी अच्छी बेटी नहीं बन पाई

छात्रा के रोमन इंग्लिश में लिखे सुसाइड नोट का मजमून सॉरी पापा मैं आपकी अच्छी बेटी नहीं बन पाई.. और मम्मी को भी सारी मम्मी मैं अभी अच्छी बेटी नहीं बन पाई.. मैं अजय से बहुत प्यार करती थी पर अब नहीं.. ये मेरा नंबर ब्लाक लिस्ट में डाल देता है, मुझ से कोई रिलेशन नहीं रखता। क्यों किया इसने ये सब, अगर प्यार नहीं करता था तो सब करके क्या मिला अजय को। अगर प्यार नहीं करता था तो मुझ से कोई लिंक नहीं रखता, क्यों मुझे ब्लैकमेल करता कि तेरे घर कॉल कर दूंगा..।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *