एनएच मुआवजा घोटालाः आइएएस अफसरों से पूछताछ की होगी वीडियो रिकॉर्डिंग

शुक्रवार को सितारगंज के किसान ने 15 लाख रुपये लौटाए। एनएच-74 मुआवजा घोटाले में कृषि भूमि को अकृषि कर किसानों ने करोड़ों रुपये का मुआवजा लिया था। जांच हुई तो एसआइटी ने किसानों के साथ ही अधिकारी, कर्मचारियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था।

देहरादून : एनएच-74 मुआवजा घोटाले में एसआइटी की राडार पर आए आइएएस अफसरों से एसआइटी देहरादून में पूछताछ करेगी। इसकी एसआइटी वीडियो रिकॉर्डिंग भी करेगी।

एसआइटी जांच में आर्बिट्रेशन के भी कुछ ऐसे मामले सामने आए, जिसमें गड़बड़झाले की पुष्टि हुई थी। किसानों से पूछताछ के आधार पर एसआइटी ने जब सारे दस्तावेज खंगाले तो आर्बिट्रेशन में करीब 15 मामलों में अनियमितता सामने आई।

इस पर एसआइटी ने आइएएस डॉ.पंकज पांडेय और चंद्रेश यादव के खिलाफ जांच रिपोर्ट तैयार कर शासन को भेज दी थी। शासन से आइएएस अफसरों से पूछताछ को मिले आदेश के बाद एसआइटी ने दोनों आइएएस अफसरों को नोटिस भेजा था।

इस पर उन्होंने फैक्स के माध्यम से 18 अगस्त तक का समय मांगा था। इसके बाद एसआइटी ने दोनों आइएएस अफसरों को बयान देने के लिए दूसरा नोटिस भेज दिया था, लेकिन उनका जवाब नहीं आया। ऐसे में एसआइटी अब 18 अगस्त को देहरादून में जाकर आइएएस अफसरों से पूछताछ कर सकती है। पूछताछ की वीडियो रिकॉर्डिंग भी की जाएगी। पूछताछ  के बाद एसआइटी अपनी रिपोर्ट तैयार कर शासन को सौंपेगी।

सितारगंज के किसान ने 15 लाख रुपये लौटाए

एनएच मुआवजा घोटाले में एसआइटी की कार्रवाई के बाद किसानों ने मुआवजा लौटाना शुरू कर दिया है। शुक्रवार को सितारगंज के किसान ने 15 लाख रुपये लौटाए।

एनएच-74 मुआवजा घोटाले में कृषि भूमि को अकृषि कर किसानों ने करोड़ों रुपये का मुआवजा लिया था। जांच हुई तो एसआइटी ने किसानों के साथ ही अधिकारी, कर्मचारियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था।

एसआइटी कार्रवाई के बाद घबराए किसानों ने मुआवजा लौटाने की पेशकश की थी। इस पर एसबीआइ में खाता खोला गया। इसमें किसानों ने मुआवजा लौटाना शुरू कर दिया। शुक्रवार को भी सितारगंज के किसान इंद्रपाल ङ्क्षसह ने 15 लाख रुपये का अतिरिक्त मुआवजा वापस किया। एसआइटी अधिकारियों के मुताबिक माना जा रहा है कि एक-दो दिन के भीतर कुछ और किसान भी मुआवजा लौटा सकते हैं।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *