फिल्म ’लैला मजनू’ की मुख्य भूमिका में नजर आएगी उत्तराखंड की तृप्ति डिमरी


देहरादून। यूं तो उत्तराखंड की बेटियां हर क्षेत्र में नाम कमा रही हैं, लेकिन बॉलीवुड में जिस तरह एक के बाद एक उभरते सितारे पहचान बना रहे हैं वह बेहद दिलचस्प है। उर्वशी रौतेला, मनस्वीं ममगाईं जैसी अदाकाराओं की पंक्ति में अब गढ़वाल की एक और बेटी तृप्ति डिमरी का नाम भी शुमार हो गया है। निर्देशक शाजिद अली, इम्तियाज अली और एकता कपूर की आने वाली फिल्म ’लैला मजनू’ में वह मुख्य अभिनेत्री ’लैला’ का किरदार निभा रही हैं। प्रेम कहानी पर आधारित यह फिल्म सात सितंबर को रिलीज होने वाली है।

रुद्रप्रयाग के छोटे से गांव ’नाग’ ककोड़ाखाल की नटखट तृप्ति इतने आगे पहुंचेगी ग्रामीणों ने सोचा भी नहीं था। परिवार और गांव में बेटी की इस उपलब्धि को लेकर खुशी का माहौल है। तीन भाई बहनों में सबसे छोटी तृप्ति अभी अपने माता-पिता के साथ दिल्ली में रहती हैं। उनके पिता दिनेश डिमरी एयर इंडिया में कार्यरत हैं जबकि मां ग्रहणी हैं।

दिनेश डिमरी से जब बेटी की सफलता के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा कि आज वे बहुत खुश हैं कि तृप्ति अपने मुकाम पर पहुंच गई है। बचपन से ही वह बॉलीवुड में जाना चाहती थी और हमने पूरी तरह उसका साथ दिया जिसका परिणाम है कि आज उसका सपना पूरा हुआ है। कहा कि पहाड़ की बेटियां किसी से कम नहीं हैं बस उन्हें मौका मिलना चाहिए।

23 वर्षीय तृप्ति ने दिल्ली यूनिवर्सिटी से अंग्रेजी विषय में ग्रेजुएशन किया है। वहीं, तृप्ति डिमरी का कहना है कि फिल्म लैला मजनू प्रेम कहानी पर आधारित है और उन्हें पूरी उम्मीद है कि फिल्म सबको पसंद आएगी।

बस ग्राम प्रधान राजबर सिंह, शंभू प्रसाद डिमरी, खेमराज डिमरी, सत्या डिमरी, सुरेश डिमरी, पुरुषोत्तम डिमरी, दुर्गा प्रसाद, हर्षवर्धन डिमरी, दयाराम सुमन देवी, सोवती देवी, मंजू देवी आदि ग्रामीणों ने तृप्ति को शुभकामनाएं दी हैं।

कश्मीरी ग्रामीण अपने पहाड़ी जैसेः तृप्ति डिमरी

लैला मजनू फिल्म की पूरी शूटिंग जम्मू-कश्मीर की हसीन वादियों में हुई। दूधपथरी, श्रीनगर, पहलगाम, सोनमर्ग में सबसे ज्यादा सीन फिल्माए गए हैं। तृप्ति डिमरी ने कहा कि 2017 से 2018 चली फिल्म की शूटिंग के दौरान उन्हें कश्मीरी लोगों को काफी नजदीक से जानने का मौका भी मिला।

उन्होंने कहा कि कश्मीर के बारे में प्रायः जो धारणा हम लोगों की बनी है हकीकत में वह कहीं अलग है। यहां के ग्रामीण भी हमारे उत्तराखंड जैसे भोले-भाले और नेक हैं। मुझे वहां पर बिल्कुल घर जैसा प्यार मिला।

सपने देखना ना छोड़ें

यह पूछे जाने पर कि वह अपने पहाड़ की बेटियों को क्या संदेश देना चाहती हैं, उन्होंने कहा कि उत्तराखंड को प्रकृति ने जितनी खूबसूरती प्रदान की है उतनी ही सुंदर यहां की बेटियां भी हैं। मैं उनसे यही कहूंगी कि सपने देखना न छोड़ें। मेरा बचपन भी पहाड़ों में बीता है और मैं भली-भांति जानती हूं कि वहां कितनी दुश्वारियां हैं, लेकिन अगर आप में कुछ कर गुजरने की चाहत है तो मुकाम जरूर हासिल हो जाता है।

शाहरुख और कंगना बेहद पसंद

तृप्ति डिमरी का कहना है कि वे बचपन से ही शाहरुख खान और कंगना रनौत की फेन रहीं हैं। शाहरुख जैसा अभिनेता होना गर्व की बात है। उनका संघर्ष और फिल्मी सफर हमें बहुत कुछ सिखाता है। वहीं कंगना रनौत की बिंदास अदाकारी उनको काफी पसंद है। उन्होंने कहा कि ’लैला मजनू’ से पहले उन्हें श्रेयस तलपड़े की कॉमिडी फिल्म ’पोस्टर ब्वॉइज’ में भी अभिनय का मौका मिल चुका है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *