ईमानदारी- हजारों की नगदी से भरा बैग पुलिस ने लौटाया


देहरादून। संवाददाता। उत्तराखण्ड में जहां एक तरफ पुलिस पर करोड़ों की लूट के आरोप लगे है वहीं पुलिस में आज भी ऐसे कर्मचारी है जो अपनी ईमानदारी के लिए जाने जाते है। ऐसा ही एक मामला थाना जीआरपी देहरादून में सामने आया है जहां थाना जीआरपी देहरादून पुलिस ने ईमानदारी की मिसाल कायम करते हुए हजारों की नगदी व अन्य जरूरी कागजातों से भरा बैग उसके मालिकों की सुपूर्दगी में दे दिया है। पुलिस की इस कार्यशैली की आमजन ने तहेदिल से प्रशंसा की है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार देर रात थाना जी.आर.पी.देहरादून मे नियुक्त का. शैलेन्द्र उनियाल को अपनी रात्रि प्लेटफार्म डियूटी के दौरान दौराने चैंकिग रेलवे स्टेशन देहरादून के महिला वेटिंग हाँल की बैच पर अज्ञात महिला रेल यात्री का पर्स जिसके अन्दर 37300 रूपये व अन्य जरूरी कागजात थे मिला। बैग की जानकारी आसपास की गयी तो किसी के भी द्वारा मालिकाना हक को लेकर दावा नही किया गया तथा पूछताछ कक्ष से भी बैग के बारे में काफी एनाउसमेन्ट कराने पर भी बैग का स्वामी कुछ पता नही चल पाया।

जिस कारण सिपाही शैलेन्द्र उनियाल द्वारा अपने भरपूर प्रयास से अपनी सूझबूझ का परिचय देते हुये पर्स मे मिले मोबाईल फोन जो स्विच आँफ रखा था को खोलकर देखा तो पता चला की वह फोन अफरोज जहाँ पत्नी मौहम्मद अतहर निवासी किदवई नगर गफूर बस्ती हलद्वानी नैनीताल का है काँल किये गये नम्बर से अफरोज जहाँ के पति मौहम्मद अतहर का न0 प्राप्त कर काँल की गई और बैग की जानकारी करने पर मौहम्मद अतहर ने बताया की यह बैग व मोबाईल फोन मेरी पत्नी अफरोज जहाँ का है हम लोग आज हलद्वानी से आज काठगोदाम से देहरादून के अपने किसी आवश्यक काम के लिये आ रहे थे ट्रेन के स्टेशन पँहूचने पर मेरी पत्नी फ्रेश होने महिला वेटिंग हाल मे गयी थी जिस कारण जल्दबाजी मे उसका समान व नगदी वही पर छूट गयी। बताया कि हमारी सारी नगदी बैग मे ही रह गयी थी जिस कारण पैसा न होने के कारण हम लोग काफी परेशान हो रहे थे।

बैग स्वामी को थाने पर बुलाया गया जो अपनी पत्नी अफरोज जहाँ के साथ पँहूचे जिनको आरक्षी शैलैन्द्र उनियाल द्वारा उपरोक्त नगदी से भरा बैग मय मोबाईल फोन व अन्य दस्तावेजो को सुर्पद किया गया। अफरोज जहाँ व उनके पति मौहम्मद अतहर व रेले अधिकारियो व रेल यात्रियो द्वारा कानि. शैलेन्द्र उनियाल व जी.आर.पी पुलिस देहरादून की ईमानदारी की काफी प्रशंसा कर धन्यवाद दिया गया।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *