बाल आयोग की अध्यक्ष ऊषा नेगी ने दून महिला चिकित्सालय का निरीक्षण किया


देहरादून। संवाददाता। बाल संरक्षण आयोग की अध्यक्ष उषा नेगी ने आज दून महिला हॉस्पिटल का निरीक्षण किया। उन्होंने लेवर रूम और निक्कू वार्ड का निरीक्षण भी किया। निक्कू वार्ड की व्यवस्थाओं को लेकर उन्होने अपनी नाराजगी व्यक्त की। उनका कहना था कि इससे पहले भी वे निक्कू वार्ड का निरीक्षण कर चूकी हैं तब उन्होंने वहां की व्यवस्थाओं जैसे बच्चों को दूध पिलाने वाले प्लास्टिक के बर्तन को बदलने के निर्देश दिये, तब उन्हें आश्वसन दिया था कि उनके निर्देश पूरे हो जायेंगे लेकिन हॉस्पिटल प्रशासन के सिस्टम के कारण आज तक कोई परिवर्तन नहीं हुआ है।

उन्होंने कहा कि नवजातों को माईक्रोवेव से दूध गर्म करके पिलाना उन्हें संक्रमण की जद में ला सकता है। यह उचित होगा कि उन्हें हाॅट प्लेट से दूध गर्म करके कांच बाॅउल से दूध दिया जाये। देवभूमि उत्तराखंड में हजारों देवी-देवताओं के निशान हैं. अगर लोग इस तरह से पुलों से गुजरेंगे तो कभी भी कोई बड़ा हादसा हो सकता है. बता दें कि भक्तों में मान्यता है कि देवी का निशान उस किसी भी रास्ते से नहीं गुजरता जहां ऊपर कुछ रखा हो या छत हो. इसलिए पुल से सीधे निशान को नहीं गुजारा गया।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *