नंदा देवी पर्वत से रेस्क्यू कर पिथौरागढ़ लाए गए पर्वतारोहियों के शव, भेजे जाएंगे दिल्ली


पिथौरागढ़ । नंदा देवी पर्वत पर पर्वतारोहण के दौरान एवलांच की चपेट में आकर जान गंवाने वाले सात पर्वतारोहियों में से चार पर्वतारोहियों के शवों को पिथौरागढ़ लाया गया है। वहीं अन्य तीन पर्वतारोहियों के शवों को अभी मुनस्यारी में रखा गया है।

शवों को एमआई-17 हेलीकॉप्टर से लाया गया है। पंचनामा भरने के बाद शवों को हल्द्वानी जिला अस्पताल में रखा जाएगा। उसके बाद सभी पर्वतारोहियों के शवों को दिल्ली भेजा जाएगा। हालांकि अभी किसी भी पर्वतारोही की शिनाख्त नहीं हो पाई है।

ये है मामला
बता दें कि 13 मई को मुनस्यारी से नंदादेवी ईस्ट के लिए गए ब्रिटेन निवासी मार्टिन मोरिन, जोन चार्लिस मैकलर्न, रिचर्ड प्याने, रूपर्ट वेवैल, अमेरिका के एंथोनी सुडेकम, रोनाल्ड बीमेल, आस्ट्रेलिया की महिला पर्वतारोही रूथ मैकन्स और इंडियन माउंटेनियरिंग फेडरेशन के जनसंपर्क अधिकारी चेतन पांडेय पर्वतारोहण के दौरान एवलांच की चपेट में आने से लापता हो गए थे।

आईटीबीपी के द्वितीय कमान अधिकारी और एवरेस्ट विजेता रतन सिंह सोनाल के नेतृत्व में गई 18 सदस्यीय हिमवीरों की टीम ने 23 जून को सात पर्वतारोहियों के शवों को निकालकर 17800 फीट की ऊंचाई पर अस्थाई कैंप में रखा था।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *