मीटू प्रकरण में भाजपा के संजय के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंची पीड़िता


देहरादून। संवाददाता। मीटू मामले में फंसे भाजपा के पूर्व महामंत्री संगठन संजय कुमार की मुसीबतें बढ़ती हुई दिख रही है। दून पुलिस की जांच से नाराज पीड़िता ने अब देश की सबसे बड़ी अदालत का दरवाजा खटखटाया है। सुप्रीम कोर्ट में पीड़िता की अर्जी को पीआईएल के रूप में सुनवाई के लिए स्वीकार कर लिया गया है।

लोकसभा चुनाव से पूर्व प्रकाश में आये इस मीटू के मामले को भले ही भाजपा ने मैनेज कर लिया हो तथा इससे उसे किसी भी तरह का कोई नुकसान न हुआ हो लेकिन पीड़िता द्वारा अब इस मामले को सुप्रीम कोर्ट में ले जाये जाने से भाजपा और आरोपी भाजपा नेता संजय कुमार की मुश्किलें बढ़ सकती है।। जानकारी के अनुसार पीड़िता द्वारा भाजपा नेता पर लगाये गये यौन शोषण के आरोपों की दून पुलिस द्वारा की गयी जांच पर सवाल उठाते हुए आरोपी को बचाने के आरोप लगाये गये है।

पीड़िता ने सुप्रीम कोर्ट से न्याय की अपील करते हुए कहा है कि पुलिस की जांच एक पक्षीय है यहां यह भी उल्लेखनीय है कि पुलिस जांच अधिकारी द्वारा इस मामले में आरोपी पर लगी धारा 376 को गलत तरीके से हटा कर आरोपी को बचाने के प्रयास किये गये है।
पीड़िता ने भाजपा के संगठन महामंत्री पर भाजपा मुख्यालय में काम करने के दौरान यौन उत्पीड़न के आरोप लगाये गये थे। मामले को भाजपा द्वारा पहले दबाने के प्रयास किये गये लेकिन जब इस मामले की पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कर ली गयी तो भाजपा ने पार्टी की छवि बचाने के लिए संजय कुमार को पद से हटा दिया गया था। स्थानीय पुलिस की जांच के दौरान भी कई उतार चढ़ाव आये।

पुलिस जांच अधिकारी ने इस केस में धाराए तक बदल दी थी और यह मामला ठंडे बस्ते में डाल दिया था लेकिन अब पीड़िता द्वारा सुप्रीम कोर्ट में मामले की शिकायत करने और उसे सुनवाई के लिए स्वीकृत किये जाने के बाद इस मामले में फिर से नया मोड़ आ गया है जो भाजपा और संजय कुमार की मुसीबतें बढ़ा सकता है। यहां यह भी उल्लेखनीय है कि विपक्ष कांग्रेस द्वारा भी इस मामले को लेकर जबरदस्त विरोध प्रदर्शन किये गये थे।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *