वीरता पुरस्कार के लिए भेजेगा प्रसाशन भाई को गुलदार से बचाने वाली राखी का नाम

गुलदार के हमले में भाई को बचाने वाली राखी


कोटद्वार। छोटे भाई को गुलदार के मुंह से बचाने वाली बीरोंखाल ब्लॉक की देवकुंडाई गांव की 11 वर्षीय बहादुर बच्ची राखी का नाम पौड़ी जिला प्रशासन वीरता पुरस्कार के लिए भेजेगा। क्षेत्रीय विधायक और पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज के प्रयासों से घायल राखी को बेहतर उपचार के लिए दिल्ली के राम मनोहर लोहिया अस्पताल में भर्ती करा दिया गया है। पर्यटन मंत्री ने बच्ची के उपचार के लिए अपने वेतन से एक लाख की धनराशि भी उसके परिजनों को दी है।
देवकुंडाई निवासी राखी ने गत चार अक्तूबर को अदम्य साहस दिखाते हुए अपने मासूम भाई को गुलदार के मुंह से बचा लिया। मां के साथ खेत से लौटते वक्त गुलदार ने उसके चार साल के भाई पर झपट्टा मारा तो राखी भाई का रक्षा कवच बन गई। गुलदार उसकी पीठ पर वार करता रहा लेकिन लहूलुहान होने के बाद भी उसने भाई को नहीं छोड़ा।

राखी को रविवार को कोटद्वार अस्पताल से हायर सेंटर रेफर कर दिया गया था। पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज के प्रयासों से घायल राखी को सोमवार देर शाम राम मनोहर लोहिया अस्पताल दिल्ली में भर्ती करा दिया गया है।

दिल्ली में पर्यटन मंत्री के विशेष कार्याधिकारी अभिषेक शर्मा ने बताया कि पर्यटन मंत्री महाराज ने राखी के इलाज के लिए एक लाख रुपये की धनराशि उसके परिजनों को दी है। महाराज ने बच्ची के इलाज पर आने वाला अन्य खर्चा भी स्वयं वहन करने का भरोसा दिलाया है।

उधर, जिलाधिकारी डीएस गर्ब्याल ने बताया कि बच्ची के अदम्य साहस को देखते हुए उसका नाम वीरता पुरस्कार के लिए भेजा जाएगा। प्रशासन की ओर से बच्ची के उपचार के लिए हर संभव मदद की जाएगी। पर्यटन मंत्री ने मामले में जिलाधिकारी से भी फोन पर वार्ता की।
राखी के परिजनों से मुख्यमंत्री ने की फोन पर बात
मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने मंगलवार को गुलदार हमले में भाई को बचाते हुए घायल हुई बालिका राखी के परिजनों से फोन पर बात कर उनके स्वास्थ्य की जानकारी ली। मुख्यमंत्री ने परिजनों को आश्वस्त किया कि राज्य सरकार से हर तरह की मदद परिवार को दी जाएगी।

गुलदार हमले में गंभीर रूप से घायल हुई बालिका राखी इलाज के लिए दिल्ली के एक अस्पताल में भर्ती थी। राखी अब खतरे से बाहर है और उसे अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया है। मुख्यमंत्री ने राखी के पूर्ण स्वास्थ्य लाभ की कामना करते हुए कहा कि बालिका ने अदम्य साहस का परिचय देते हुए अपने छोटे भाई को बचाया। हमें अपनी बेटी की वीरता पर गर्व है।

मुख्यमंत्री ने दिल्ली स्थित उत्तराखंड के अपर स्थानिक आयुक्त को बालिका राखी के परिजनों के संपर्क में रहते हुए आवश्यक उपचार व अन्य सुविधाएं उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं। पौड़ी जिले के बीरोंखाल विकासखंड में शुक्रवार को 11 साल की राखी अपने 4 साल के भाई के साथ घर आ रही थी, तब एक गुलदार ने उस पर हमला कर दिया। राखी ने गुलदार से डरने के बचाए उसका सामना किया और अपने भाई की रक्षा की। इस हमले में भाई को अधिक चोटें नहीं आई, लेकिन राखी घायल हो गई थी।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *